छवि देख तिहारी, दुल्हन प्यारी...

छवि देख तिहारी, दुल्हन प्यारी... 
अपने भैया की शादी में दुल्हन की छवि का बखान करते लिखी थी ये कविता ...
छवि देख तिहारी... दुल्हन प्यारी...


छवि देख तिहारी, दुल्हन प्यारी,

खुली म्हारे शब्दों की ये पिटारी...
पायल छम-छम, बिंदिया चम चम,
जियरा मा धड़कन जाए थम थम,
अखियाँ झुकी झुकी बोले कम कम,
लाज में ऐसी जाए रम रम,


एक जीव...
एक जीव बड़ो गुमसुम है,
दूल्हा के देखो होस ही गुम है,
सर पे सेहरा, दमके चेहरा,
जसे विजय पताका दी हो फहरा,


चाँद सा दूल्हा गयो है जम जम,
दुल्हन कि मुस्की में है दम दम,
प्यारा मिला थारे हमजोली,
दुआएं देती ननद ये बोली,
हर रात दिवाली, दिन हो होली,
जीवन रंगों की रंगोली,


असी है बंधी ये इक डोर, 
सबके मन मा नाचे मोर,
खुशी का नहीं कोई ओर छोर,
लो सभी हुए हैं भाव-विभोर,
प्रभुजी ने प्यारी जोड़ी है मिलाई,
दूल्हा-दुल्हन के बधाई हो बधाई... 

अन्य बतियां | जयोम के मुख से

करवाई हंसी की बौछार | जयोम के मुख से | विविध - संकलन

हा हा हा ये छोटा सा विदूषक हंसाने में बड़ा माहिर होता जा रहा है. बस, कभी कभी खुद समझ नहीं पाता, कि हम इतनी ज़ोर से क्यों हंस रहे हैं.

मेरा प्यारा नन्हा सुधारक | जयोम के मुख से | विविध - संकलन

ज़रा गलती कर के तो देखो... कहां हम सोचते थे, कि जयोम की गलतियां सुधारकर उसे अच्छा बोलना सिखाएंगे, यहां तो जनाब दो साल के हुए हैं नहीं और अभी से हमारी गलतियां सुधार रहे हैं

मुझे नींद न आए | जयोम के मुख से | विविध - संकलन

जब आए तो चलो नींद को भगाएं न सोने के और नींद भगाने के ढेर उपाय हैं जयोम के पास. नींद चाहे अपने सारे हथियार अपना ले, जयोम की आखों में नींद भरी होती है, उबासियां भी आतीं हैं,
पर उसके पास तरीके भी शानदार हैं से दुश्मन से निपटने के.

चीज़ों से बतियां | जयोम के मुख से

जानता नहीं कि जान नहीं बेजान चीज़ें कहां सुनेंगीं जयोम की बातें, पर वो फिर भी उनसे बातें करता है.