मुझे नींद न आए | जयोम के मुख से | विविध - संकलन

मुझे नींद ना आए...

जब आए तो चलो नींद को भगाएं

सोच रहा है, और क्या करुं नींद भगाने के लिए

रात को सामन्य मनुष्यों के सोने के समय अगर मेरे नन्हे से जयोम को हम सुलाने लगें, तो कहता है, “मम्मा अभी नी सोना”

फिर न सोने के और नींद भगाने के ढेर उपाय हैं जयोम के पास. नींद चाहे अपने सारे हथियार अपना ले, जयोम की आखों में नींद भरी होती है, उबासियां भी आतीं हैं,
पर उसके पास तरीके भी शानदार हैं से दुश्मन से निपटने के.

कभी तकिया मेरे ऊपर डाल कर कहता है, "मम्मा को ओढ़ा दिया".
अपने पापा का (या मेरा) सिर थपथपाकर कहता है, “पापा, आराम से सोना"
तकियों का ढेर बनाकर उसपर लुढ़कता है, पूछती हूँ, ये क्या कर रहे हो, तो कहता है, “मम्मा मैं कुछ काम कर रा हूँ.”

फिर कहता है, “मम्मा, शेर की कहानी सुनाओ.” और कभी, “रानी की कहानी सुनाओ”
आजकल कहानी पूरी होने पर अगर मैं न कहूं तो खुद ही कहता है, “क्हानी खतम”
फिर तुरंत ही, “और सुनाओ"

कभी गाने की फरमाइश करता है, मैं मधुर धुन वाली लोरी सुनाने की कोशिश करती हूँ, तो मना कर देता है.
ये लड़का मुझसे लोरी की जगह, "ऐंवई ऐंवई लुट गया” गवाता है.

छोटे बल्ब का प्रतिबिंब घड़ी में दिख जाए, तो "मून मून" कह कर मून का गाना सुनाने कहता है. या फिर चंन्ना चन्ना चिल्लाता है.

एक दिन पलंग के कोने पर खुद के छोटे छोटे से मोजे मिल गए. वो सो जाए इसलिए मैं चुपचाप उसके पास लेटी थी, तो लाकर मेरा बांह पर मोजे लगा दिए,
और कहता है, “मम्मा को मोजे पहना दिए”. तब से नींद भगाने के लिए मुझे मोजे बांह पर पहनाए जाते हैं
एक दिन मैंने चिड़ कर कहा, "मुझे नहीं पहनने”
तो कुछ पल तो चुप रहा, फिर इधर से उधर लोट लगाने लगा. साथ में तान में कह रहा था,
“मम्मा को मोजे नहीं पहनाना है, मम्मा को मोजे नहीं पहनाना है"

परसों रात को अपने मोज़े खोल लिए, और उछाल उछाल कर कहता है, “फोकस”
मैंने पूछा, ये क्या कर रहे हो, तो बोला, "फोकस कर रा हूं."
फिर दीवार पर मोजा मार कर बोला, “दीवार पर फोकस कर दिया”
उसकी नानी का फोन आया, पूछा, "जयोम सो गया”, तो मैंने कहा "नहीं, वो तो फोकस कर रहा है"

बस एक ये सोने वाला समय ही है जब जयोम बिना किसी की ज़रूरत अकेला खेल लेता है.
अगर मैं उठ कर काम करने लगूं, तो पलंग से उतरकर टेबल के पास आएगा, और मॅकबुक की तरफ इशारा कर के कहेगा,
"मम्मा मिंकु मामा लगा दो" / "मम्मा नानी से बात करनी है" / "मम्मा पूजा बुआ से बात करनी है" /
"जयोम को मिट्ठू दिखा दो" / "आना है, पास"

रात को सुलाती हूँ तो सोता नहीं, सुबह उठाती हूँ तो कहता है, “मम्मा और सोना है”

नटखट जयोम

© 2013, UV Associates
All rights reserved

अन्य बतियां | जयोम के मुख से

करवाई हंसी की बौछार | जयोम के मुख से | विविध - संकलन

हा हा हा ये छोटा सा विदूषक हंसाने में बड़ा माहिर होता जा रहा है. बस, कभी कभी खुद समझ नहीं पाता, कि हम इतनी ज़ोर से क्यों हंस रहे हैं.

मेरा प्यारा नन्हा सुधारक | जयोम के मुख से | विविध - संकलन

ज़रा गलती कर के तो देखो... कहां हम सोचते थे, कि जयोम की गलतियां सुधारकर उसे अच्छा बोलना सिखाएंगे, यहां तो जनाब दो साल के हुए हैं नहीं और अभी से हमारी गलतियां सुधार रहे हैं

चीज़ों से बतियां | जयोम के मुख से

जानता नहीं कि जान नहीं बेजान चीज़ें कहां सुनेंगीं जयोम की बातें, पर वो फिर भी उनसे बातें करता है.